शादीशुदा ज़िंदगी को बनाना है खुशहाल… तो याद रखें यह 5 सवाल!

बदलते समय के साथ रिश्तों की गंभीरता में भी काफी बदलाव देखने को मिल रहे हैं तभी तो शादी होती नहीं कि डायवोर्स (तलाक) के पेपर्स बनने शुरु हो जाते हैं। इन दिनों शादी एक खेल सा बन गया है। लोग अपने ईगो (Ego) के आगे कुछ नहीं देखते हैं और ना ही अपने पार्टनर के सामने झुकना पसंद करते हैं।

हमारा यह कहना नहीं है कि आप किसी गलत बात के लिए झुके या फिर उसे चुप-चाप सहते रहे लेकिन ज़रूरी यह भी है कि जब आप शादी के पवित्र बंधन से बंधे हैं तो पहले एडजस्ट (Adjust) करना सीखें।  शादी एक ऐसा प्यारा रिश्ता होता है जो दो दिलो को सिर्फ रिश्ते से ही नहीं, बल्कि दो इन्सान के हर सुखदुख से जोड़ देता है।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ खास सवालों के जवाब जिसकी मदद से आप अपनी शादीशुदा ज़िंदगी में खुशियां फिर से वापस ला सकते हैं –

क्या आप शादी जैसे रिश्ते भी दोस्ती की तरह निभाते हैं?

आप मेरी इस बात से सहमत ज़रूर होंगे कि जब दो इंसानों के बीच सच्ची दोस्ती होती है तो वह इन्सान एक दुसरे के सुख दुःख में सहभागी बन जाता है… वहीं, शादी के बाद अक्सर देखा जाता है एक पति अपनी पत्नी के ऊपर तो अपना अधिकार तो दिखाता ही है, साथ ही वह उसे हमेशा अपने से नीचे ही रखना चाहता है। ध्यान रहें कि दोस्ती एक ऐसा रिश्ता माना जाता है जो खून के रिश्ते से तो नहीं होता है लेकिन यह रिश्ता जन्म के साथ बंधे रिश्तों से बढ़कर होता है, इसलिए कभी भी किसी को अपनी शादी के इस रिश्ते को दोस्ती की तरह निभाना चाहिए जहां मांग की अपेक्षा त्याग और समर्पण की भावना ज्यादा प्रबल होती है।

क्या आप सिर्फ मैं नहीं हम बनकर जीते हैं?

अकसर शादी के पहले चाहे वह लड़का हो या फिर लड़की… सिर्फ अपने लिए ही जीना जानते है और वह सिर्फ अपने हितों को ही आगे रखते है। गौरतलब है कि शादी के बाद जो लोग खुद को नहीं बदल पाते है उनके लिए वैवाहिक जीवन बड़ा ही कष्टकारी सा हो जाता है। याद रखें कि शादी एक ऐसा पवित्र बंधन है जो सिर्फ अपने आप नहीं चलता है बल्कि यह पति और पत्नी दोनों के सहयोग से चलता है।

क्या आप वर्तमान में जीना जानते हैं?

हर किसी का कोई ना कोई पास्ट (Past) ज़रूर से होता है इसका यह मतलब नहीं कि आप अपने पास्ट को लेकर पूरी ज़िंदगी जीते चले जाएं। यह कहावत तो आपने सुनी होगी कि – “जो बीत गई वह बात गई”… अगर आप एक खुशहाल जीवन की कल्पना करते हैं तो अपने पास्ट को भूलकर वर्तमान में जीना ज़रूर से सीखें।

क्या गुस्से और दिमाग पर आपका काबू है?

किसी ने सही कहा है कि गुस्सा इंसान का सबसे बड़ा दुश्मन होता है… जान लें कि गुस्सा ऐसा बुरा गुण है जो इन्सान को पलभर में कुछ भी करवा देता है और शादी के बाद वही गुस्से की वजह से इस रिश्ते में दरार पड़ने की सम्भावना बढ़ जाती है, इसलिए सभी को अपने गुस्से पर हमेशा काबू रखना चाहिए और कभी भी गुस्से में ऐसा कुछ नहीं बोलना चाहिए जिससे की पति या फिर पत्नी के आत्मविश्वास पर चोट लग जाए। इस बात का खास ध्यान रखें कि रिश्ते में अगर एक बार दरार पड़ जाती है तो रस्सी के टूटने के बाद भी अगर उसे जोड़ा गया तो कहीं न कहीं उसमें भी गाठ पड़ ही जाती है… इसलिए जो कुछ बोले या कहे उसे प्यार और सोच-विचार कर कहे ताकि आपके प्यार भरे रिश्ते में कहीं भी दरार ना पड़े।

क्या आप माफ़ करना जानते हैं?

गलतियां हम सबसे होती हैं। कोई भी इंसान पर्फेक्ट नहीं होता है। अगर आप किसी रिश्ते में हैं और वह भी शादी जैसे पवित्र बंधन में तो आपके लिए यह बहुत आवश्यक है माफ करना सीखना। छोटी-छोटी गलतियों को लेकर बड़ा सा झगड़ा बना देना कहीं से भी सही नहीं है इसलिए कोशिश करें कि छोटी-छोटी गलतियों को नज़रअंदाज करने की। बताते चलें कि वह इंसान सबसे अमीर होता है जो माफ करना जानता है।

दोस्तों, हमारे पूछे गए सवालों का जवाब आप अपने शब्दों में भी हमें दे सकते हैं बस कमेंट बॉक्स पर अपने नाम के साथ सुझाव दें.. हम जल्द ही आपके सुझाव को लोगों तक पहुंचाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook8k
Instagram7k