मानवता की अद्भुत मिसाल हैं – डॉ. शोभा चक्रवर्ती

अगर सेवा और समपर्ण की भावना हो तो व्यक्ति अपने व्यवहार से अपना उदाहरण स्थापित कर सकता है और ऐसा ही कुछ कर दिखाया है रांची शहर की वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शोभा चक्रवर्ती।

79 वर्षीय डॉ. शोभा चक्रवर्ती ने अपने पूरे 55 साल के करियर में मरीजों की सेवा और अपने प्रोफेशन के प्रति निष्ठा बढ़-चढ़कर दिखाया है और देखा जाए तो यही उनकी पहचान भी हैं। पहले की तरह आज भी वह समय से अपने क्लीनिक में बैठ जाती हैं और जहां जिस केस में भी उनकी मदद की जरूरत होती है, वह बिना देर किए वहां पहुंच जाती हैं। हार्ट अटैक से उबरे अभी उन्हें करीब पांच महीने ही हुए हैं लेकिन अभी भी वह उसी फुर्ती और जोश में नज़र आती हैं। 

काम को पूजती हैं डॉ. शोभा चक्रवर्ती –

हाल ही में दैनिक भास्कर को दिए एक इंटरव्यू में शोभा चक्रवती ने कहा कि “पूरी जिंदगी मैंने काम छोड़कर और कुछ नहीं किया। मैं काम करूंगी तभी ठीक रहूंगी…

रोज दो घंटे पढ़ती हैं डॉ. शोभा चक्रवर्ती –

मेडिकल में हो रहे बदलाव पर खुद को अपडेट रखने के लिए डॉ. शोभा चक्रवर्ती रोज पढ़ती हैं। डॉ. शोभा चक्रवर्ती की मानें तो दिन में दो घंटे भी अगर वह नहीं पढ़ेंगी तो क्या करेंगी… उनकी यह ऊर्जा हर युवा के लिए वाकई में अद्भुत प्रेरणा के श्रोत से कम नहीं है।

डॉ. शोभा चक्रवर्ती का सिनियर डॉक्टर्स को सलाह –

डॉ. चक्रवर्ती का कहना है कि, ‘जितने भी सीनियर डॉक्टर हैं उन्हें इमरजेंसी में जरूर जाना चाहिए। क्रिटिकल मरीजों के पास उनके होने का ट्रीटमेंट पर काफी असर पड़ता है। सिनियर डॉक्टर्स को अपने काम के प्रति गंभीर होना बहुत आवश्यक है।

आइए जानते हैं डॉ. शोभा चक्रवर्ती के दुखद व सुखद पल –

दुखद पल – वर्ष 1998, रिटायरमेंट का समय

यह वह समय था जब डॉ. शोभा चक्रवर्ती पूरे वक्त बस रोती रहती थी। वह किसी से कुछ कह नहीं सकी और उनके साथ पूरी टीम रो पड़ी थी।

सुखद पल – मरीज का ठीक होना

जब कोई मरीज ठीक होता तो डॉ. शोभा चक्रवती को सबसे ज्यादा खुशी हुआ करती थी। कोई मरीज जब अच्छा होता तो डॉ. शोभा चक्रवर्ती अपनी पूरी टीम के साथ पार्टी किया करती थी।

काम के लिए काम करो, पैसे अपने आप मिलेंगे…” – डॉ. शोभा चक्रवर्ती आपको सुपरहिट फिल्म 3 इडियट्स ज़रूर याद होगी… उस फिल्म में आमिर खान का एक डॉयलोग था कि “एक्सिलेंस का पीछा करो… सक्सेस झक मारके तुम्हारे पीछे आएगी…”  ठीक उसी तरह डॉ. शोभा चक्रवती का भी सारे डॉक्टर्स के लिए यही टिप्स है कि “सिर्फ काम के लिए काम करो, पैसे अपने आप मिलेंगे…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Facebook8k
Instagram7k